सोयाबीन की खेती (Soybean Cultivation) मे अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु

सोयाबीन की खेती
सोयाबीन  की खेती : उत्तराखण्ड में सोयाबीन  खरीफ की मुख्य तिलहनी फसल है। सोयाबीन में 20 प्रतिशत तेल व 40 प्रतिशत प्रोटीन पाई जाती है। सोयाबीन से दूध, दही, पनीर, आटा, नमकीन एवं कई अन्य प्रकार के व्यजंन भी बनाये जाते  है। सोयाबीन की खेती मैदानी क्षेत्रों में अभी हाल में ही कुछ वर्षो से शुरू हुई हैI इसमे 40 से 50 प्रतिशत प्रोटीन तथा 20 से 22 प्रतिशत तक तेल की मात्रा पाई जाती हैI इसके प्रयोग से शरीर को प्रचुर मात्रा में प्रोटीन मिलती हैI प्रदेश के बुंदेलखंड के सभी जनपदों एवम बदाऊ, रामपुर, बरेली, शा...
More

औषधीय कृषि- भुई आंवला (हजारदाना)की खेती कैसे करें।

bhuiAmla
साधारण नाम- हजारदाना वानस्पतिक नाम- फाइलेंथस एमरस उपयोग- सम्पूर्ण पौधे ( पंचांग ) का उपयोग परम्परागत रूप से पीलिया तथा अन्य बीमारियों में होता है। लोक औषधि में इसका प्रयोग गुर्दा रोग, मूत्ररोग, आंत सम्बन्धी बीमारियां, शर्करा तथा यकृत रोगों में होता है। फाइलेंन्थीन तथा हाइपोफाइलेंथीन इसके जैव सक्रिय यौगिक है। पौध परिचय- यह एक बहुवर्षीय पौधा है इसका तना सीधा तथा 10 से 60 सेमी होती है। इसमें आजीवन पुष्प निकलते हैं। जलवायु- इसके पौधे भारत में 700 मी. की ऊंचाई तक के क्षेत्रों में बहुतायत मे...
More

औषधीय कृषि – एकोरस ( वच -sweet flag-Vacha) की खेती कैसे करें।

एकोरस ( वच -sweet flag)
औषधीय कृषि -  एकोरस ( वच ) की खेती कैसे करें। साधारण नाम- वच वानस्पतिक नाम- एकोरस कैलेमस। उपयोग- भूस्त्रीय तने ( राइजोम ) का प्रयोग पारम्परिक रूप से तिक्त पाचक, पेट दर्द निवारक व अन्य बहुत सी बीमारियों में किया जाता हैं। पौध परिचय- सामान्यतया इसकी खेती दलदली, अर्ध जलप्लावित भूमि में बहुवर्षीय फसल के रूप में की जाती है जिसका भूस्त्रीय तना जमीन में फैलता रहता है। हिमालयी क्षेत्रों 2200 मीटर ऊंचाई तक व सम्पूर्ण भारत में इसके पौधे प्राकृतिक अवस्था में पाए जाते है। जलवायु- शीतोष्ण एव...
More

औषधीय कृषि – सनाय(Sine) की खेती कैसे करें?

सनाय(Sine) की खेती कैसे करें साधारण नाम- सनाय वानस्पतिक नाम- केसिया अंगुस्तिफोलिया उन्नत किस्म- सोना [By Lalithamba from India [CC BY 2.0 (http://creativecommons.org/licenses/by/2.0)], via Wikimedia Commons] Also read : कैमोमिल (Chamomile) या गुलेबबुना की खेती कैसे करें? उपयोग- फलियों के छिलके तथा पत्तियों का उपयोग यूनानी एवं भारतीय चिकित्सा पद्यति में दस्तावर औषधि के रूप में होता है। सम्पूर्ण पौधे में सेनोसाइट पाया जाता है, लेकिन इसकी मात्रा फलियों के छिलकों में 3-4℅ तथा पत्ति...
More

प्रतिबंधित कीटनाशकों को भारत में खुलेआम बेचा और प्रयोग किया जा रहा है|इस से बचें और इसे रोकें|

प्रतिबंधित कीटनाशक
प्रतिबंधित कीटनाशक - भारत में खुलेआम बेचा और प्रयोग किया जा रहा है| आपसे बेहतर इस तथ्य को कौन समझ सकता है कि खेती के मामले में जहर पर हमारी निर्भरता कितनी बढ़ चुकि है। फसल उगाने से पहले खेत में जहर डालना शुरू करते हैं तो भण्डारण तक नहीं रूकते। बात यहीं खत्म हो जाती तो गनीमत था, अब तो फल-सब्जियों को पकाने और देर तक ताजा रखने के लिए भी जहर का इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है। एक आश्चर्यजनक सच्चाई यह भी है कि दुनिया भर के प्रतिबंधित कीटनाशक को भारत में खुलेआम बेचा और प्रयोग किया जा रहा है। फल-सब्जियो...
More

जानिये घर और फसलों में दीमक से छुटकारा पाने के आसान उपाय

फसलों में दीमक
दीमक एक कटिबंधों में सबसे हानिकारक कीट हैं और कृषि के क्षेत्र में काफी समस्याएं, पैदा कर सकता है|दीमक की कुल 2500 प्रजातियाँ होती हैं इनके घोंसलों भूमिगत होते है, इसके रोकथाम के लिए कुछ उपाय निम्न हैं | 1- मटका विधि आवश्यक  सामग्री 1-मक्का के भुट्टे की गिंड़याँ 2- मिटटी का घड़ा 3- सूती कपडा You Can Also Check Out:- प्रमुख फफूंदीनाशी रसायन प्रयोग विधि  मक्का के भुट्टे के दाने  निकलने के बाद जो गिल्लियां बचती है (आठ से दस गिल्लियां ) उन्हें मिटटी के घड़े में इकट्ठा कर घड़े में रख क...
More

कैसे करें मधुमक्खी पालन? मधुवाटिका में मधुमक्खियों की देखरेख एवं प्रबन्धन.

मौन गृह
कैसे करें मधुमक्खी पालन ? मधुवाटिका एवं प्रबन्धन मधुमक्खियों सहित मौन गृह रखे जाने वाले स्थान को मधुवाटिका कहते है। अधिक शहद उत्पादन लेने के लिए यह आवश्यक है कि पूरे वर्ष भर मधुवाटिका की उचित देख रेख समयानुसार करे। एक सफल मौन पालक को मौसम तथा विभिन्न ऋतुओं के अनुसार मौन को सभी सुविधाएं उपलब्ध कराने के बारे में ज्ञान बहुत जरूरी है| विभिन्न ऋतुओं के अनुसार मौन गृह का देख-रेख करते हुये मौन पालक अपेक्षाकृत अधिक आय प्राप्त कर सकते हैं। अतः एक मौनपालक को मौसम के अनुसार निम्न प्रकार से मौनगृह का ...
More

औषधीय कृषि – कैमोमिल (Chamomile) या गुलेबबुना की खेती कैसे करें?

कैमोमाइल
कैमोमिल या गुलेबबुना की खेती कैसे करें? साधारण नाम- कैमोमिल, गुलेबबुना। वानस्पतिक नाम- कैमोमिला rikyutita। उन्नत किस्म- वेल्लरी, प्रशांत, सीमैप- सम्मोहक। उपयोग- फूल तथा उससे प्राप्त तेल, फूलों का उपयोग चाय, हर्बल , स्नान, सुगंधियों एवं सजावट के लिए तथा इसके तेल का उपयोग साबुन, कास्मेटिक, शैम्पू, क्रीम, फार्मास्युटिकल्स, घरेलू दवाइयां, माउथ वाश, सुगन्ध उपयोग एवं अरोमाथेरेपी में होता है। प्रमुख रासायनिक घटक- कैमोमिल के तेल में कैमोजुलिन रसायन की मात्रा 17-18 ℅ होती है। जल...
More

मूली(Radish) उत्पादन की उन्नत तकनीक

radish(मूली )
मूली उत्पादन की उन्नत  तकनीक   महत्व – मूली का उपयोग प्रायः सलाद एवं पकी हुई सब्जी के रूप में किया जाता है इसमें तीखा स्वाद होता है। इसका उपयोग नाष्ते में दही के साथ पराठे के रूप में भी किया जाता है। इसकी पत्तियों की भी सब्जी बनाई जाती है। मूली विटामिन सी एवं खनीज तत्व का अच्छा स्त्रोत है। मूली लिवर एवं पीलिया मरीजों के लिए भी अनुसंषित है। जलवायु मूली के लिए ठण्डी जलवायु उपयुक्त होती है लेकिन अधिक तापमान भी सह सकती है। मूली की सफल खेती के लिए 10-150से. तापमान सर्वोत्तम  माना...
More

खस या वेटीवर(vetiver) की खेती कैसे करें??

vetiver(खस)
 खस या वेटीवर की खेती कैसे करें? साधारण नाम- खस, वेटीवर वानस्पतिक नाम- kraisopogan जिजैनियोइडिस उन्नत किस्में- के एस- 1, के एस- 2, धारिणी, केशरी, गुलाबी, सिम-व्रद्धि, सीमैप खस- 15, सीमैप खस- 22, सीमैप खुशनलिका। उपयोग- जड़ो से प्राप्त सुगन्धित तेल, कास्मेटिक, साबुन एवं इत्र आदि में प्रयोग किया जाता है। इसका तेल उच्च श्रेणी का स्थिरक होने के कारण चन्दन, लेवेंडर एवं गुलाब के तेल पर ब्लेंडिंग में प्रयोग होता है। इसके अतिरिक्त तम्बाकू, ...
More

नवम्बर माह में मैदानी क्षेत्र एवं पर्वतीय क्षेत्र में होने वाली फसले, फल, पुष्प, पशुपालन।

नवम्बर माह में मैदानी क्षेत्र में होने वाली फसले धान, उर्द  व मूगं देर से बोई गई  फसल की कटाई कर लें और सुखाकर भंडारण की व्यवस्था करें। मूगंफली देर से बोई गई फसल की खुदाई  करें। अरहर शीघ्र पकने वाली किस्मों  की 75-80 प्रतिशत फलियां पकने पर कटाई कर लें। लम्बी अवधि की किस्मों में फलीछेदक कीट के रोकथाम के लिए मोनाक्रोटोफेास (36 एस.एल.) 1250 मिली. या डाइमेथाऐट 3. 0 इ.सी. 660 मिली.लीटर दवा को आवश्यक पानी में  मिलाकर प्रति हैक्टेयर की दर से छिड़काव करें। ताेरिया दाना भरने की अवस्था में यदि ...
More