लीची की प्रमुख समस्याएँ और समाधान

लीची
लीची सेपिन्डेसी कुल का एक सदाबहार, उपोष्ण कटिबन्धीय फल है। इसका मूल स्थान दक्षिण चीन माना जाता है। भारतवर्ष में लीची का आगमन सत्रहवीं शताब्दी के अन्त में म्यान्मार होते हुए उत्तर पूर्वी राज्यों में हुआ। भारत में लीची की बागवानी मुख्य रुप से बिहार, उत्तराखण्ड, पश्चिमी बंगाल, झारखण्ड, उत्तर प्रदेश के तराई वाले क्षेत्रों , त्रिपुरा, असम, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश तथा दक्षिण भारत के नीलगिरी क्षेत्रों में की जा रही है। भारत में लीची की बागवानी 74.4 हजार हैक्टर क्षेत्रफल में की जा रही है, जिससे 48...
More

जानिए कैसे होती है लीची (Lychee) के बाग की स्थापना एवं देखभाल (अथ्वा -लीची की उन्नत खेती कैसे करें?)

लीची
लीची एक स्वादिष्ट फल है। इसकी खेती उन क्षेत्रो मे सफलतापूर्वक की जा सकती है जहाँ गर्म हवालों (लू) तथा पाले का प्रकोप न होता हो। लीची के बाग की स्थापना प्रजातियॉं जल्दी पकने वाली -मुजफ्फरपुर, शाही, अर्ली बेदाना, अर्ली लार्ज रेड देर से पकने वाली -लेट बेदाना, कलकतिया, बम्बई, कस्बा मध्य समय से पकने वाली - राजे सेटेंड , स्वर्णरूपा, लेट लार्ज रेड,देहरारोज बाग लगाने का समय एवं दूरी जुलाई से सितम्बर। 10*10 मी. तथा सघन बागवानी के लिए 5*5 मी. की दूरी पर बाग लगायें। गड्ढ़े का आकार एव...
More

जानिए कैसे होती है आम (Mango) के बाग की स्थापना एवं देखभाल ?

आम
आम फलों का राजा कहा जाता है। व्यापारिक तौर पर इसकी खेती समुद्र तल से 600 मीटर की ऊचांई तक सफलतापूर्वक की जाती है। आम बाग की स्थापना प्रजातियॉं जल्दी पकने वाली - गौरजीत, बम्बई हरा, बम्बई पीला,पंत सिन्दूरी मध्य समय में  पकने वाली - दशहरी, लगंडा़ , रतालै , लखनऊ सफेदा देर से पकने वाली - आम्रपाली, मल्लिका, चौसा, तैमूरिया, फजरी बाग लगाने का समय एवं दूरी :- फरवरी-मार्च व जुलाई से अगस्त। पौध से पौध एवं कतार से कतार 10*10 मीटर। चौसा, लगड़ा एवं फजरी 12*12 मीटर। गड्ढे का आकार एवं भराई ...
More

बादाम (Almonds) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

बादाम
बादाम की खेती घाटी एवं ऊँचे पर्वतीय क्षेत्र में की जाती है। बादाम की मुख्य किस्में : केलिफोर्निया पेपर सेल, नान पेरिल, ड्रेक, थिनरोल्ड, आई.एक्स.एल., नीप्लस अल्ट्रा, फ्रेगनेस परागकर्ता किस्में : आई.एक्स.एल., नीप्लस अल्ट्रा के 20 प्रतिशत पौधे लगाने चाहिए। केलिफोर्निया पेपर सेल हेतु आई.एक्स.एल. अच्छी परागकारक किस्में हैं। बादाम की रोपण की दूरी एवं विधि बादाम के पौधों को 5 मी. लाइन से लाइन तथा 5 मी. पौधे से  पौधे की दूरी पर लगाना चाहिए। पौधों को लगाने, गड्ढा खोदने एवं भरने  की विधि सेब क...
More

अखरोट (Walnut) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

अखरोट
अखरोट की बागवानी पर्वतीय क्षेत्र में 1600 मीटर से लेकर 2400 मीटर तक की जाती है। अखरोट की मुख्य किस्में फ्रेंक्वेटे, हार्टले, ब्लैकमोर, ट्यूटले, गोविन्द, रूपा, रत्ना रोपण की दूरी एवं विधि इसके वृक्ष 10 मी. कतार से कतार तथा 10 मी. पौधे से पौधे की दूरी पर सेब में दी गई विधि से लगाना चाहिए। अखरोट की कलमी कागजी किस्मों को ही लगाना चाहिए। उर्वरक एवं खाद 50 ग्रा. नाइट्रोजन, 50 ग्रा. फास्फोरस तथा 25 ग्रा. पोटाश प्रति वृक्ष प्रति वर्ष आयु के अनुसार देना चाहिए। यह मात्रा 20 वर्ष के पश्च...
More

खुबानी (Apricot) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

खुबानी
खुबानी की खेती मुख्यतः मध्य पर्वतीय क्षेत्र में की जाती है तथा इस फसल पर कीट एवं रोग का आक्रमण भी कम होता है। खुबानी की मुख्य किस्मे शीघ्र पकने वाली- शिपलेज अर्ली, न्यू लार्ज अर्ली, चौबटिया मधु,चौबटिया अलंकार मध्य समय - कैशा, मोरपाक्र, टर्की, चारमग्ज देर से  - रायल, सेंट , अम्ब्रियोस , चौबटिया केसरी, मोरपार्क, हलमनै एवं हारकाटे अधिक ऊंचे क्षत्रे के लिए। सुखाकर मेवे के रुप- चारमग्ज, पैरा पैरोला, सफेदा, शकरपारा मीठी गिरी वाली-सफेदा, चारमग्ज, नगेट, नारी, शकरपारा रोपण की दूरी एव...
More

अलूचा (Plum) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

अलूचा
अलूचा की बागवानी पर्वतीय क्षेत्र, घाटी तथा तराई एवं भावर तक सफलतापूर्वक की जाती है। इसकी किस्में  निम्न हैं। अलूचा की प्रमुख किस्में पर्वतीय क्षेत्र (मध्य व ऊँचे क्षेत्र के लिए) शीघ्र तैयार होने वाली- मिथले , फर्स्टप्लम , रामगढ मेनार्ड मध्य समय मे- सेंटारोज़ा , विक्टोरिया , बरबंकै , न्यूप्लम , रेड ब्यूटी देर से - मेनार्ड , सतसुमा , मैरीपोजा घाटी, तराई एवं भावर क्षत्रे -तितरो , जामुनी , फ्ला 1-2 परागकर्ता किस्म - अलूचा की अच्छी फसल के लिए बगीचे में दो तीन किस्मो को एक साथ लगान...
More

आड़ू (Peaches) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

आड़ू
आड़ू की खेती मध्य पर्वतीय क्षत्रे, घाटी तथा तराई एवं भावर क्षेत्रों में की जाती है। यह शीघ्र फल देता है। अतः इसकी बागबानी को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए। आड़ू की प्रमुख किस्में पर्वतीय क्षेत्र (मध्य व ऊँचे क्षेत्र के लिए) शीघ्र पकने वाली-जून अर्ली, अलेक्जेन्डर, अर्लीव्हाइटजाईट मध्यम समय- एलवर्टा, हेल्स अर्ली, क्राफोर्ड अर्ली (तोतापरी), अर्ली रिवर्स, जे.एच. हेल्स, पैराडीलक्स देर से पकने वाली-जुलाई अलवर्टा, रेड नेक्ट्रीन, गोल्डेन बुश, पैरीग्रीन, स्टारकिंग डेलीशस परागण-अधिकांश किस्म...
More

नाशपाती (Pear) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

नाशपाती
नाशपाती की खेती ऊंचे पर्वतीय क्षत्रे से लकेर घाटी, तराई एवं भावर क्षेत्र तक की जाती है। नाशपाती की मुख्य किस्में पर्वतीय क्षेत्र (मध्य एवं ऊँचे पर्वतीय क्षेत्र 1600-2400 मी.) अगेती- थम्वपियर, डा. जूल्स गॉयट, अर्ली चाइना मध्य- व्यूरे  डी अमने लिस, बग्गूगोसा, डायनडेयुकोमिस , विक्टोरिया, कान्फ्रेंस, फ्लेमिस व्यूटी पछेती - विन्टर नेलिस , व्यरूहार्डी , विलियम (वार्टलटे ), मैक्सरेड वार्टलेट, जार्गनेल, पैखम्स ट्रायफ घाटी, तराई एवं भावर- चायनापियर, लिंकान्टे, कीफर, गाले ा, स्मिथ, पत्...
More

सेब (Apple) के अधिकतम उत्पादन एवं फसल सुरक्षा हेतु ध्यान देने योग्य विशेष बिन्दु।

सेब
सेब के डेलिशस वर्ग की किस्मो की खेती 2400 मी. तक या इससे अधिक ऊँचाई तथा उत्तरी ढलान पर 3400 मी. तक करना लाभकारी पाया गया है। इस ऊँचाई तथा इससे कम ऊँचाई 1500 मी. ऊँचाई पर स्पर किस्में उगाई जा सकती हैं। सेब की उन्नत किस्में शीघ्र तैयार होने वाली- अर्ली सनवरी, फैनी, बिनोनी , चाबै टिया प्रिसं जे , चाबै टिया अनुपम, टिडमनै अर्ली बरसेस्टर, वैन्स डेलीशस मध्य अवधि - रेड डेलीशस, रायल डेलीशस, गोल्डेन डेलीशस, रिच-ए-रेड, कोर्ट लैन्ड, रेड गोल्ड, मैकिनटाँस रेडस्पर, गोल्ड स्पर, स्कारलेटगाला, आरगनस्पर,...
More