मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना २०२०: किसानों की आत्मनिर्भरता और अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देने का एक प्रयास

मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना २०२०: किसानों की आत्मनिर्भरता और अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देने का एक प्रयास:   अक्षय ऊर्जा : सौर ऊर्जा हम सभी जानते हैं की पढाई लिखाई के अभाव में किसान कई ऐसी चीजों और तकनीकों से अनभिज्ञ रह जाते हैं जो उनके कृषि कार्य को कम समय में ज्यादा कुशलता से संपन्न करा सकें. इन्हीं तकनीकों में से एक तकनीक है सौर ऊर्जा . सौर ऊर्जा का प्रयोग करने से ना केवल किसान बिजली के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेंगे बल्कि अक्षय ऊर्जा को भी बढ़ावा मिलेगा. सौर ऊर्जा के लिए सरकार द्व...
More

रामनगर में किसानश्री सम्मान: सम्मान, किसानों के उत्साह-वर्धन के लिए

किसानश्री सम्मान: सम्मान, किसानों के उत्साह-वर्धन के लिए:   किन किसानों को मिलेगा ये सम्मान?: रामनगर में ,कृषि कार्य में अच्छा प्रदर्शन करने वाले किसानों को सम्मानित करके उनका उत्साहवर्धन करने के लिए ये पुरस्कार सोचा गया हे. इस पुरस्कार कार्यक्रम २०१९-२० के तहत अच्छा प्रदर्शन करने वाले किसानों से आवेदन लेने का काम किया जा रहा है। क्या करें किसान इस पुरस्कार का लाभ उठाने हेतु : आवेदन प्रक्रिया इस पुरस्कार का लाभ उठाने के लिए किसानों को समय सीमा के अंदर आवेदन करना होगा. अध...
More

गेहूं की अधिकतम पैदावार प्राप्त करने के लिए निम्न बिन्दुओं पर विशेष ध्यान देना चाहिए |

wheat
  गेहूं की अधिकतम पैदावार प्राप्त करने के लिए निम्न बिन्दुओं पर विशेष ध्यान देना चाहिएः   - उन्नतशील प्रजातियों का चयन क्षेत्रानुसार परिस्थिति विशेष हेतु संस्तुत प्रजातियों का चुनाव करे ।  अपने प्रक्षेत्र पर 2-3 प्रजातियों की बुवाई करें ताकि रोग एवं कीटों के प्रकोप होने पर उपज में कमी न्यूनतम हो। भूमि की तैयारीः- बुवाई के समय खेत में खरपतवार एवं ढेले न हो तथा पर्याप्त नमी होनी चाहिए। अतः खेत में नमी की कमी हो तो जुताई से पूर्व पलेवा करे । खेत में ओट 1⁄4जब आसानी से जुताई की जा सके...
More

औषधीय कृषि- भुई आंवला (हजारदाना)की खेती कैसे करें।

bhuiAmla
साधारण नाम- हजारदाना वानस्पतिक नाम- फाइलेंथस एमरस उपयोग- सम्पूर्ण पौधे ( पंचांग ) का उपयोग परम्परागत रूप से पीलिया तथा अन्य बीमारियों में होता है। लोक औषधि में इसका प्रयोग गुर्दा रोग, मूत्ररोग, आंत सम्बन्धी बीमारियां, शर्करा तथा यकृत रोगों में होता है। फाइलेंन्थीन तथा हाइपोफाइलेंथीन इसके जैव सक्रिय यौगिक है। पौध परिचय- यह एक बहुवर्षीय पौधा है इसका तना सीधा तथा 10 से 60 सेमी होती है। इसमें आजीवन पुष्प निकलते हैं। जलवायु- इसके पौधे भारत में 700 मी. की ऊंचाई तक के क्षेत्रों में बहुतायत मे...
More

औषधीय कृषि – एकोरस ( वच -sweet flag-Vacha) की खेती कैसे करें।

एकोरस ( वच -sweet flag)
औषधीय कृषि -  एकोरस ( वच ) की खेती कैसे करें। साधारण नाम- वच वानस्पतिक नाम- एकोरस कैलेमस। उपयोग- भूस्त्रीय तने ( राइजोम ) का प्रयोग पारम्परिक रूप से तिक्त पाचक, पेट दर्द निवारक व अन्य बहुत सी बीमारियों में किया जाता हैं। पौध परिचय- सामान्यतया इसकी खेती दलदली, अर्ध जलप्लावित भूमि में बहुवर्षीय फसल के रूप में की जाती है जिसका भूस्त्रीय तना जमीन में फैलता रहता है। हिमालयी क्षेत्रों 2200 मीटर ऊंचाई तक व सम्पूर्ण भारत में इसके पौधे प्राकृतिक अवस्था में पाए जाते है। जलवायु- शीतोष्ण एवं समशीतोष्ण जलवाय...
More

भारत में खेत नापने के लिए प्रयोग होने वाले मात्रक अथ्वा खेती के नाप|

खेती के नाप
खेती के नाप भारत में प्रयोग होने वाले खेती के नाप भारत के अधिकांश भागो में खेती के नाप के लिए गज, हाथ,गट्ठा, जरीब, बिस्‍सा, बिस्‍वॉनसी, उनवांनसी, कचवानसी,बीधा, किल्‍ला, एकड, हेक्‍टेअर, मरला, कनाल आदि मात्रकों का प्रयोग होता हैं। अगर इतिहास में झांके तो अकबर के शासनकाल के 1571 ई. से 1580 ई. (10 वर्षों) के आंकड़ों के आधार पर भू-राजस्व का औसत निकालकर ‘आइन-ए-दहसाला’ लागू किया गया। इस प्रणाली के अन्तर्गत राजा टोडरमल ने अलग-अलग फ़सलों पर नक़द के रूप में वसूल किये जाने वाला लगान का 1571 से...
More