सफ़ेद सोना….यानि कपास….नया साल २०२० लेकर आएगा बंपर कपास..

सफ़ेद सोना….यानि कपास….नया साल २०२० लेकर आएगा बंपर कपास..

क्या है कपास ?

कपास एक फसल है जिससे  रुई तैयार की जाती हैं, इसको सफेद सोना कहा जाता है.

कपास

कपास

 

कपास का इतिहास 

हमारे देश की लगभग 9.4 मिलियन हेक्टेयर जमीन पर कपास की खेती की जाती हैं। कपास का उल्लेख प्राचीन काल से सुनने में आता रहा है. हमारे प्रथम वेद यानि ऋग्वेद में भी इसका उल्लेख किया गया है,जिससे ये बात तो स्पष्ट है कि भारतीयों का कपास से सूती वस्र बनाने का ज्ञान प्राचीन काल से ही है.

क्यों महत्वपूर्ण है कपास आज भी ?

आज भी कपास की खेती का हमारे देश की औद्योगिक और कृषि अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका है. कपास, वस्त्र उद्दोग को बुनियादी कच्चा माल प्रदान करता है. इसके अलावा लगभग ६० लाख किसानो को प्रत्यक्ष रूप में रोजगार भी देता है.

 

ये भी पढ़ें :

एक दिन हमारे अन्नदाता का

 

कैसा रहेगा नया साल कपास के लिए ?

 

आने वाले साल में कपास के बंपर उत्पादन की उम्मीद है. कॉटन एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया के अनुसार कपास के उत्पादन में १३.६२ फीसदी की वृद्धि का अनुमान है.हम जानते हैं की कपास की एक गाँठ १७० किलोग्राम की होती है. २०१८-२०१९ में कपास की पैदावार लगभग ३१२ लाख गांठ थी, नए साल में इसका उत्पादन ४२.५ लाख गांठ ज्यादा रहने की संभावना है. इसका कारण इस साल की अच्छी बारिश है.
कॉटन एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया के अनुसार कपास के मौसम के अंत तक यानि की ३० सितम्बर,२०२० तक कुल कपास की सप्लाई ४०३ लाख गांठ होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *